बंगाल के हाल-बेहाल

बंगाल के हाल-बेहाल

पश्चिम बंगाल में निष्पक्ष चुनाव सुनिश्चित करने के लिए राज्य को अति संवेदनशील घोषित करने की भाजपा की अपील पर चुनाव आयोग ने बुधवार को राज्य निर्वाचन अधिकारी से जमीनी स्तर पर रिपोर्ट मांगी । इस बीच, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने आरोप लगाया कि भगवा पार्टी केंद्रीय बलों की आड़ में छिपने का प्रयास कर रही है क्योंकि वह राज्य में एक भी सीट नहीं जीत सकती  ।

बनर्जी ने कहा कि चुनाव आयोग को केवल भाजपा का नहीं बल्कि सभी राजनीतिक दलों का ख्याल रखना है । वह एक संवैधानिक निकाय है और उसे भाजपा के दुष्प्रचार के प्रभाव में नहीं आना चाहिए । भाजपा ने चुनाव आयोग से पश्चिम बंगाल में निष्पक्ष चुनाव सुनिश्चित करने के लिए उसे अति संवेदनशील राज्य घोषित करने की अपील की है और मांग की है कि राज्य में सभी मतदान केंद्रों पर केंद्रीय बल तैनात किये जायें  ।

भाजपा द्वारा चुनावी दृष्टि से पूरे पश्‍चिम बंगाल को अतिसंवेनशील घोषित करने की मांग के चंद घंटे के अंदर ही कांग्रेस व वाम दलों ने भी तृणमूल कांग्रेस के खिलाफ हिंसा की आशंका जताते हुए चुनाव आयोग से राज्य के सभी बूथों को अतिसंवेदनशील घोषित करने की मांग की । बुधवार को प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सोमन मित्रा, प्रदीप भट्टाचार्य के अलावा वामो प्रतिनिधि दल के नेता रोबिन देव ने चुनाव आयोग के दफ्तर में अधिकारियों से भेंट की। दोनों दलों ने आयोग से मांग की कि सभी बूथों को अतिसंवेनशील घोषित किया जाय क्योंकि अतीत के इतिसाह से हिंसा की पूरी आशंका है।

सोमेन मित्रा ने आयोग को एक चिठ्ठी देकर मांग की कि राज्य में निष्पक्ष व शांतिपूर्ण चुनाव के माहौल के लिए राज्य में तत्काल केंद्रीय सुरक्षा बलों का हस्तक्षेप जरुरी है। चिठ्ठी में कहा गया है कि सत्ताधारी पार्टी द्वारा अभी से नेताओं, कार्यकर्ताओं व समर्थकों के साथ ही मतदाताओं को डराने धमकाने का काम शुरू हो गया है । ग्यारह मार्च की घटना का हवाला देते हुए कांग्रेस ने कहा कि गस्ती के दौरान गुंडों के साथ मिलकर तृणमूल कांग्रेस ने सिविक वॉलंटियर की बेरहमी से पीटाई कर हत्या कर दी। कई तृणमूल नेताओं का नाम चिठ्ठी में दर्शाते हुए कांग्रेस ने कहा है कि स्थानीय युवक होने के चलते गांव के लोग जब उसे बचाने दौड़े तो उन लोगों पर तृणमूल के गुंडों ने बमबाजी की तथा गोली भी चलाई। कांग्रेस ने दोषियों की तत्काल गिरफ्तारी की मांग करते हुए कहा कि चुनाव पूर्व व बाद की स्थिति पूरी तरह कंद्रीय सुरक्षा बलों द्वारा नियंत्रित की जानी चाहिए जिससे निष्पक्ष व शांतिपूर्ण चुनाव हो सके। वहीं, वाम दलों ने भी चुनाव आयोग के एक जैसी मांग करते हुए कहा है कि तत्काल पूरे राज्य में केंद्रीय सुरक्षा बलों की तैनाती की जरुरत है जिससे लोगों में विश्‍वास पैदा हो सके तथा लोग निर्भय होकर मतदान कर सकें।

 

Related posts

गौतम गंभीर उतरेंगे चुनाव के मैदान में !

admin

कांग्रेस में राहुल के बाद प्रियंका गांधी आई लेकिन भगदड़ नहीं रोक पाई

admin

मोदी ही हैं जो दे सकें पाकिस्तान को उसी की भाषा में जवाब

admin

कांग्रेस ने 27 उम्मीदवारों की चौथी लिस्ट जारी की, तिरुवनंतपुरम से शशि थरूर को मिला टिकट

admin

किस स्थान से बने अब तक तीन मुख्यमंत्री

admin

मोदी के सपनों का भारत

admin