BJP steps up Main Bhi Chowkidar Campaign releases caller tune service to connect with people

बीजेपी ने लॉन्च की कॉलर ट्यून, नंबर मिलाते ही सुनाई देगा ‘मैं भी चौकीदार’ 

2019 के चुनावी रण में चौकीदार सबसे बड़ा किरदार बनकर उभर रहा है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राफेल विमान सौदे के मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चोर बताया और ‘चौकीदार चोर है’ का नारा दिया लेकिन अब बीजेपी इस पर फ्रंटफुट पर खेल रही है। पहले मैं भी चौकीदार कैंपेन और उसके बाद आज भारतीय जनता पार्टी ने ‘मैं भी चौकीदार’ कॉलर ट्यून लॉन्च की है।

अब विभिन्न मोबाइल नेटवर्किंग कंपनियों के उपभोक्ता ‘मैं भी चौकीदार’ को अपनी कॉलर ट्यून बना सकते हैं। भाजपा ने ‘मैं भी चौकीदार’ को कॉलरट्यून बनाने के लिए अलग-अलग टेलीकॉम कंपनियों के लिए नंबर जारी किए हैं। अगर आप एयरटेल का मोबाइल नंबर इस्तेमाल करने वाले ग्राहक को ‘मैं भी चौकीदार’ को अपना कॉलर ट्यून बनाने के लिए 57878617 नंबर डायल करना होगा। नंबर डायल करने के बाद आपका कॉलरट्यून ‘मैं भी चौकीदार’ में बदल जाएगा।

इसी तरह वोडाफोन के ग्राहकों को अपना कॉलर ट्यून बदलने के लिए अपने फोन से 53711116475 नंबर डायल करना होगा। जबकि आइडिया के नंबर वाले ग्राहकों को 5678911116415 डायल करना होगा। इसके साथ ही जियो के ग्राहकों को फोन के मैसेज में जाकर Chowkidar टाइप कर 56789 पर भेजना होगा। उसके बाद जियो की ओर से जो मैसेज आएगा उसके अनुसार कॉलर ट्यून सेट करना होगा।

#MainBhiChowkidar अभियान शुरू होने के बाद से ही दुनिया भर में टॉप ट्रेंड करने लगा। चुनावी मैदान से बाहर सोशल मीडिया की जंग में फिलहाल बीजेपी कांग्रेस पर भारी पड़ती दिख रही है। केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद के मुताबिक #MainBhiChowkidar जब लॉन्च हुआ तो पूरी दुनिया में ट्रेंड किया, अभी तक 20 लाख लोग इस मुहिम से जुड़ चुके हैं। उन्होंने कहा कि अभी तक इस पर करोड़ों की संख्या में इंप्रेशन आए हैं, एक करोड़ लोग अभी तक इस मुहिम के तहत शपथ ले चुके हैं।

2019 में, मैं भी चौकीदार की ही तरह बीजेपी ने 2014 में चाय पर चर्चा के नाम से कैंपेन चलाया था। बीजेपी का ये कैंपेन कितना सफल हुआ इसका परिणाम सबके सामने है। पार्टी ने चुनाव में ऐतिहासिक प्रदर्शन करते हुए शानदार जीत दर्ज की और 1984 के बाद किसी एक पार्टी को बहुमत मिला।

आज चर्चा है 2019 का लोकसभा चुनाव नए भारत का चुनाव है। कभी वाहन तो कभी पैदल घूम-घूमकर वोट मांगने वाले नेता वक्त की नजाकत को भांपते हुए आज सोशल नेटवर्क में शुमार हो गए हैं। ट्विटर, फेसबुक, वाट्सएप जैसी सोशल साइट्स पर यदा- कदा नजर आने वाली सियासी पोस्ट अब सियासत से सराबोर हो रही हैं।

 

Related posts

टिकट कटने के बाद स्टार प्रचारकों की लिस्ट से भी बाहर हुए आडवाणी-जोशी, वोटरों को लिखा खत

admin

कांग्रेस ने बीजेपी के ‘संकल्प पत्र’ को बताया ‘झांसा पत्र’

admin

कन्हैया कुमार ने बेगुसराय से दाखिल किया नामांकन, गिरिराज सिंह को देंगे टक्कर

admin

साध्वी प्रज्ञा पर ‘हिंदू टेरर’ के नाम से फर्जी केस लगाया गया था : अमित शाह

admin

मोदी फिर प्रधानमंत्री बने, इसलिए राजलक्ष्मी ने बाइक से कर डाली 15 हजार किमी की यात्रा

admin

पुरी से लोकसभा चुनाव लड़ेंगे संबित पात्रा, कहा, ‘मैं तो मोदी जी का डाकिया हूं, जनता की चिट्ठी उनतक पहुंचाऊंगा’

admin