हार्दिक के चुनाव लड़ने पर संशय

हार्दिक के चुनाव लड़ने पर संशय

आगामी लोकसभा चुनावों के लिए पाटीदार नेता हार्दिक पटेल की मुश्किलें बढ़ गई हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, आरक्षण रैली में हिंसा के आरोपी हार्दिक की याचिका पर सुनवाई करने से गुजरात हाई कोर्ट ने मना कर दिया है। हाइकोर्ट से बरी नहीं होने के कारण वह मई में होने वाले लोकसभा चुनाव नहीं लड़ पाएंगे। हार्दिक पटेल एक दिन पहले मंगलवार को ही कांग्रेस में शामिल हुए हैं। कार्यसमिति की बैठक के दौरान राहुल गांधी ने उन्हें पार्टी की सदस्यता दी थी ।

गुजरात के महेसाणा जिले में एक आरक्षण रैली के दौरान हुई हिंसा और तत्कालीन स्थानीय भाजपा विधायक ऋषिकेश पटेल के कार्यालय पर हमला और तोड़फोड़ करने के आरोप में बीते 25 जुलाई को एक स्थानीय अदालत ने हार्दिक पटेल को दो साल के साधारण कारावास की सजा सुनाई थी।

नियम के मुताबिक ऐसे नेता जिन्हें दो साल या इससे अधिक की सजा मिली हो, वे सजा के दौरान चुनाव नहीं लड़ सकते। वकील रफीक लोखंडवाला ने गुजरात हाई कोर्ट से विसनगर की अदालत द्वारा दी गई सजा पर रोक लगाने का आग्रह किया था।

पाटीदार आरक्षण आंदोलन का हब माने जाने वाले मेहसाणा में पाटीदार समाज इस बात को लेकर आक्रोशित है कि हार्दिक पटेल ने पूरे पाटीदार समाज के साथ धोखा किया है। हार्दिक पटेल ने अपनी महत्वकांक्षा पूरी करने के लिए पाटीदार समाज को हथियार बनाया और उनकी भावनाओं के साथ खेला है ।  जिस तरह हार्दिक पटेल पाटीदार समाज की भावनाओं को किनारे करते हुए कांग्रेस में शामिल हुए हैं । इस बात से पाटीदार समाज में काफी आक्रोश देखने मिल रहा है ।

 

Related posts

ममता ने बनाया महिलाओं को सिरमौर

admin

कांग्रेस में राहुल के बाद प्रियंका गांधी आई लेकिन भगदड़ नहीं रोक पाई

admin

राहुल गांधी का बड़ा चुनावी वादा, 25 करोड़ लोगों को देंगे 3 लाख 60 हजार करोड़ का ‘न्याय’

admin

टिकट कटने के बाद स्टार प्रचारकों की लिस्ट से भी बाहर हुए आडवाणी-जोशी, वोटरों को लिखा खत

admin

मोदी हर काम मिशन से करता है, कांग्रेस हटाओ गरीबी भी हटेगी : पीएम मोदी

admin

बज गया चुनावी बिगुल

admin