जानिए क्या है आचार संहिता

जानिए क्या है आचार संहिता ?

निर्वाचन आयोग ने लोकसभा चुनाव की तारीखों को एलान कर दिया है। इसके साथ ही आचार संहिता लागू हो गई है। इसके अनुपालन के लिए प्रशासन जुट गया है। आचार संहिता लगने के बाद कोई भी राजनीतिक दल या अभ्यर्थी को बिना अनुमति के होर्डिंग-बैनर नहीं लगा सकेंगे। न ही कोई आयोजन कर सकेंगे।

सामान्य नियम
– बिना अनुमति के कहीं भी होर्डिंग, पोस्टर या बैनर नहीं लगाया जा सकता।
– धार्मिक स्थानों का उपयोग चुनाव प्रचार के मंच के रूप में नहीं किया जा सकता।
– सभा के स्थान व समय की अनुमति प्रशासन से लेनी होगी।
– इसकी पूर्व सूचना पुलिस अधिकारियों को देनी होगी।
– सभा स्थल में लाउडस्पीकर के उपयोग के लिए भी अनुमति पहले लेनी होगी।

आचार संहिता लगने के बाद प्रधानमंत्री या मंत्री अब न तो कोई घोषणा कर सकते हैं, न शिलान्यास, लोकार्पण या भूमिपूजन कर सकते हैं। सरकारी खर्च से ऐसा आयोजन नहीं होगा, जिससे किसी भी दल विशेष को लाभ पहुंचे।

प्रत्याशी और राजनीतिक पार्टी को रैली, जुलूस निकालने, मीटिंग करने के लिए इजाजत पुलिस से लेनी होती है। जिन्हें चुनाव आयोग ने परमिशन ना दी हो वो मतदान केंद्र पर नहीं जा सकते हैं। राजनीतिक दलों की हरकत पर चुनाव आयोग पर्यवेक्षक नजर रखते हैं। सरकारी गाड़ी या एयर क्राफ्ट का इस्तेमाल मंत्री नहीं कर सकते हैं। सरकारी बंगले का या सरकारी पैसे का इस्तेमाल चुनाव प्रचार के दौरान नहीं किया जा सकता है।

कोई भी घटक दल वोट पाने के लिए जाति या धर्म आधारित अपील नहीं की कर सकता, अगर ऐसा कोई करता है तो उसे दंडित किया जा सकता है। राजनीतिक पार्टियों को अपने कार्यकर्ताओं को आइडेंटी कार्ड देना होता है।

अगर नियमों का पालन नहीं किया तो : अगर कोई उम्मीदवार इन नियमों का पालन नहीं करता तो चुनाव आयोग उसके ख़िलाफ़ कार्रवाई कर सकता है, उसे चुनाव लड़ने से रोका जा सकता है, उम्मीदवार के ख़िलाफ़ एफआईआर दर्ज हो सकती है और दोषी पाए जाने पर उसे जेल भी जाना पड़ सकता है।

 

Related posts

गोवा के नए मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने संभाली मनोहर पर्रिकर की विरासत

admin

सुशिल शिंदे, राज बब्बर और प्रिया दत्त उतरेंगे चुनावी मैदान में

admin

मोदी फिर प्रधानमंत्री बने, इसलिए राजलक्ष्मी ने बाइक से कर डाली 15 हजार किमी की यात्रा

admin

क्या आप और कांग्रेस का गठजोड़ होगा संभव?

admin

हाफ शर्ट, सैंडल और स्कूटर की सवारी…. वाकई बिरले थे मनोहर पर्रिकर

admin

ममता ने बनाया महिलाओं को सिरमौर

admin