lok sabha election sadhvi pragya singh thakur may against congress leader digvijaya singh from bhopal

साध्वी प्रज्ञा ने ज्वाइन की बीजेपी, भोपाल से दिग्विजय सिंह के खिलाफ चुनाव लड़ना तय

मध्य प्रदेश की भोपाल लोकसभा सीट से भारतीय जनता पार्टी ने अभी तक उम्मीदवार का एलान नहीं किया है। लेकिन साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने आज भोपाल स्थित बीजेपी दफ्तर पहुंचकर बीजेपी की प्राथमिक सदस्यता ग्रहण कर ली है। साध्वी को पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की मौजूदगी में बीजेपी की सदस्यता दिलाई गई।

इससे पहले सुबह शिवराज की अगुवाई में बीजेपी नेताओं की मीटिंग हुई थी। प्रज्ञा ठाकुर बीजेपी दफ्तर मिठाई लेकर पहुंची थीं। नरोत्तम मिश्रा समेत बीजेपी के कई वरिष्ठ नेताओं ने गुलदस्ता देकर बधाई दी। खबर है कि भारतीय जनता पार्टी उन्हें भोपाल लोकसभा सीट से दिग्विजय सिंह के खिलाफ चुनावी मैदान में उतार सकती है। भोपाल सीट बीजेपी के गढ़ में से एक है।

साध्वी प्रज्ञा को भोपाल से बीजेपी उम्मीदवार बनाए जाने की अटकलें काफी दिनों से चल रही थीं। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री से मुलाकात के बाद साध्वी प्रज्ञा ने पत्रकारों से बातचीत में कहा, मैंने भाजपा की सदस्यता ले ली है और मैं चुनाव लड़ूंगी और जीतूंगी उन्होंने कहा कि कोई चुनौती नहीं है मेरे लिए, मैं धर्म पर चलने वाली हूं। मैं शाम को वापस आ रहीं हूं। मेरे साथ जो कुछ भी हुआ वो भी बताऊंगी।

पिछले दिनों  साध्वी प्रज्ञा ने कहा था कि यदि संगठन का आदेश होगा तो वह ‘धर्मयुद्ध’ लड़ने के लिए तैयार हैं। उन्होंने कहा था कि अभी तक मैं किंगमेकर की भूमिका में थी लेकिन अब यदि संगठन के आदेश पर किंग बनना पड़े तो वे इसके लिए तैयार हूं। साध्‍वी ने कहा था कि जिस दिग्विजय सिंह ने हिंदू धर्म को पूरे विश्व में बदनाम किया, भगवा ध्‍वज को आतंकवाद का रूप बताया, अध्‍यात्‍म और त्‍यागमय जीवन पर आक्षेप किए और राष्‍ट्रधर्म को कलंकित किया, उसके खिलाफ यदि मुझे चुनाव लड़ना पड़े तो पीछे नहीं हटूंगी।

गौरतलब है कि महाराष्ट्र के मालेगांव बम ब्लास्ट केस में आरोपी बनाए जाने के बाद सुर्ख़ियों में आईं साध्वी प्रज्ञा ठाकुर अपने बयानों से हमेशा चर्चा में रहती हैं। हालांकि उस केस में बरी होने के बाद उन्हें रिहा कर दिया गया था। साध्वी प्रज्ञा ठाकुर अपने तीखे बयानों से हमेशा कांग्रेस को निशाने पर लेती रही हैं। साध्वी प्रज्ञा का एबीवीपी और दुर्गा वाहिनी से जुड़ाव रहा है।

साध्वी प्रज्ञा ठाकुर पहली बार तब चर्चा में आईं, जब वर्ष 2008 के मालेगांव ब्लास्ट केस में उन्हें गिरफ्तार किया गया था। वे 9 वर्षों तक जेल में रहीं। साध्वी प्रज्ञा ने आरोप लगाया है कि तत्कालीन गृहमंत्री पी. चिदंबरम ने ‘हिंदू आतंकवाद’ का जुमला गढ़ा और इस नैरेटिव को सेट करने के लिए उन्हें झूठे केस में फंसाया। बता दें भोपाल लोकसभा सीट पर 12 मई को चुनाव होना है। इसके लिए 16 अप्रैल से नामांकन शुरू हो गया है।

Related posts

कांग्रेस के घोषणापत्र में राहुल गांधी की हुंकार- ‘गरीबी पर वार, 72 हजार’

admin

कौन होगा अगला प्रधानमंत्री ?

admin

चुनाव आयोग ने पीएम मोदी की बायोपिक के बाद अब वेब सीरीज को किया बैन

admin

मोदी के सपनों का भारत

admin

गृह मंत्रालय ने राहुल गांधी से ब्रिटिश नागरिकता पर मांगा जवाब, कांग्रेस ने बताया जन्मजात भारतीय

admin

नवरात्रि में कांग्रेस ज्वाइन करेंगे शत्रुघ्न सिन्हा, पटना साहिब से लड़ने चुनाव

admin