Modi war on Rahul justice scheme Those who can not open accounts for 70 years they are talking about money

राहुल की ‘न्याय’ स्कीम पर मोदी का वार- “जो 70 साल तक खाता नहीं खुलवा सके, वो पैसे की बात कर रहे हैं”

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज मेरठ से 2019 के चुनाव अभियान की शुरुआत की। पीएम ने कहा इस जन सैलाब को देखकर लग रहा है अब दिल्ली ही नहीं दुनिया का मीडिया, पूरब, पश्चिम, उत्तर, दक्षिण जिसने भी 2019 का जनादेश देखना हो वो इस जन सैलाब को देख सकता है।

पीएम ने कहा, भारत के 130 करोड़ लोग मन बना चुकें हैं कि 2019 में फिर एक बार मोदी सरकार बनने जा रही है। उन्होंने कहा मेरठ से 2019 के चुनाव अभियान की शुरुआत करना एक खास वजह है। पीएम ने कहा, 1857 में वही सपना, वही आकांक्षा दिल में लिए इसी मेरठ से स्वतंत्रता के आंदोलन का पहला बिगुला फूंका गया था।

पीएम मोदी ने चौधरी चरण सिंह को भी नमन किया पीएम ने कहा कि चौधरी साहब देश के उन महान सपूतों में से हैं, जिन्होंने देश कि राजनीति को खेत खलिहानों और किसानों की और ध्यान देने के लिए बाध्य किया। पीएम ने कहा, 5 वर्ष जब मैंने आप सभी से आशीर्वाद मांगा था तो आपने भरपूर प्यार दिया था, मैंने कहा था आपके प्यार को मैं ब्याज सहित लौटाऊंगा और जो काम किया है, उसका हिसाब दूंगा और साथ में दूसरों का हिसाब भी लूंगा। ये दोनों काम साथ-साथ चलेंगे। तभी हिसाब बराबर होगा। पीएम ने कहा, मैं चौकीदार हूं, और चौकीदार कोई नाइंसाफी नहीं करता।

उन्होंने कहा आज एक तरफ विकास का ठोस आधार है, दूसरी तरफ न नीति है, न विचार है, न ही नीयत है। आज एक तरह नए भारत के संस्कार हैं और दूसरी तरह वंशवाद का बोलबाला है, एक तरफ दमदार चौकीदार है, तो दूसरी तरफ दागदारों की भरमार है। हमारा विजन एक ऐसे नए भारत का  है, जो अपने गौरवशाली अतीत के अनुरूप ही वैभवशाली होगा। एक ऐसा नया भारत जिसकी नई पहचान होगी, जहां सुरक्षा, समृद्धि और सम्मान के संस्कार होंगे। पीएम ने कहा, जमीन हो, आसमान हो, या फिर अंतरिक्ष सर्जिकल स्ट्राइक का साहस आपके इसी चौकीदार की सरकार ने करके दिखाया है।

पीएम ने सैनिकों की बात करते हुए कहां कि, लगभग 4 दशकों से हमारे सैनिक वन रैंक-वन पेंशन (OROP) मांग रहे थे, उसको पूरा करने का काम भी इसी चौकीदार ने किया। देश के करीब 12 करोड़ किसानों को 75 हज़ार करोड़ रुपए की सीधी वार्षिक सहायता देने का काम भी हमारी सरकार ने किया है। पीएम ने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि, जब मैं बैंक खाते खुलवाता था तो कुछ बुद्धिमान लोग कहते थे कि देश में बैंक ही नहीं है खाते से क्या होगा। जो 70 साल में गरीब का खाता नहीं खुलवा सके वो आज कहते हैं कि खाते में पैसे डालेंगे।

आरक्षण पर बोलते हुए पीएम मोदी ने कहा कि,  सामान्य वर्ग के गरीबों को 10 प्रतिशत आरक्षण देने का फैसला भी हमारी सरकार ने किया है। विपक्ष पर निशाना साधते हुए पीएम ने कहा, जब दिल्ली में इन महामिलावटी लोगों की सरकार थी, तो आए दिन देश के अलग-अलग कोने में बम धमाके होते थे। ये आतंकियों की भी जात और पहचान देखते थे और उसी आधार पर पहचान करते थे कि इसे बचाना है या सजा देनी है।

आज स्थिति ये है कि कुछ दिन पहले जो चौकीदार को चुनौती देते फिरते थे वो आज रोते फिरते हैं। मोदी ने पाकिस्तान को घर में घुसकर क्यों मारा, आतंकियों के अड्डे नष्ट क्यों किए, इन बातों पर रो रहे हैं। मैं देशवासियों से पूछना चाहता हूं कि हमें सबूत चाहिए या सपूत। मेरे देश के सपूत यही मेरे देश के सबसे बड़े सबूत हैं। जो सबूत मांगते हैं, वो सपूत को ललकारते हैं। पीएम ने कहा, सारे महामिलावटी लोग, कौन पाकिस्तान में ज्यादा पॉपुलर होगा इस प्रतिस्पर्धा में लगे हैं। वहां की मीडिया में छाए हुए हैं। आपको तय करना है कि आपको हिंदुस्तान के हीरो चाहिए या पाकिस्तान के? मैं देश के लिए अपना सब कुछ दांव पर लगाने के लिए तैयार रहने वाला व्यक्ति हूं। कोई भी राजनीतिक दबाव, कोई भी अंतरराष्ट्रीय दबाव, आपके इस चौकीदार को डिगा नहीं पाएगा और न कोई डरा पाएगा।

पीएम ने कहा मैं किसी तरह का बोझ नहीं रखता, क्योंकि मेरे पास अपना कुछ नहीं, जो कुछ है वो देश का दिया है। चिंता तो उसको होती है जो खोने से डरता है, जिन्हें वंश और विरासत का सोचना है। पीएम ने कहा, हमारे वैज्ञानिक पहले से अंतरिक्ष में सैटेलाइट को मार गिराने के परीक्षण की मांग कर रहे थे और पुरानी सरकार ने ये फैसला भी टाल दिया था। देश की सुरक्षा के लिए ये फैसला बहुत पहले ले लिया जाना चाहिए था। लेकिन ये फैसला भी टाला जाता रहा।

उत्तर प्रदेश में जिस पार्टी के नेताओं को जेल भेजने के लिए, बहन जी ने जीवन के 2 दशक लगा दिए उसी से उन्होंने हाथ मिला लिया है। जिस दल के नेता बहन जी को गेस्ट हाउस में ही खत्म कर देना चाहते थे, वो अब उनके साथी बन गए हैं। पीएम ने कहा जब मैं 8-10 साल की उम्र का था, तब सुनाता था कि सरकार गरीबी हटाने के बारे में बात कर रही है। जब 20-22 साल का हुआ तो इंदिरा गांधी भी कहती थी कि गरीबी हटाएंगे। इसके बाद भी चार-चार पीढ़ियां यही कहती रहीं। वो तो आगे बढ़ते रहे लेकिन गरीब, गरीब ही रह गया।

Related posts

नवरात्रि में कांग्रेस ज्वाइन करेंगे शत्रुघ्न सिन्हा, पटना साहिब से लड़ने चुनाव

admin

चुनाव प्रचार में सैनिकों की तस्वीरों का नहीं हो प्रयोग: चुनाव आयोग

admin

राहुल गांधी ने अमेठी से भरा नामांकन, सोनिया, प्रियंका और जीजा रॉबर्ट वाड्रा रहे मौजूद

admin

PM मोदी ने वाराणसी से किया नामांकन, दाह संस्कार करने वाले जगदीश चौधरी बने प्रस्तावक

admin

महाराष्ट्र में बोले पीएम मोदी- कुपोषित बच्चों के लिए भेजे पैसों से चुनाव लड़ रही कांग्रेस

admin

हाफ शर्ट, सैंडल और स्कूटर की सवारी…. वाकई बिरले थे मनोहर पर्रिकर

admin