पद्म पुरस्कार जब प्रोटोकॉल तोड़ 'वृक्ष माता' तिम्मक्का ने राष्ट्रपति कोविंद को दिया आशीर्वाद

पद्म पुरस्कार : जब प्रोटोकॉल तोड़ ‘वृक्ष माता’ तिम्मक्का ने राष्ट्रपति कोविंद को दिया आशीर्वाद 

सोशल मीडिया पर इस तस्वीर ने धूम मचा रखी है। कोई कह रहा है असली भारत को पद्म सम्मान मिला, न कोई जुगाड़ न कोई सिफारिश, पद्म सम्मान उनको मिला जो इसके वास्तविक हक़दार हैं। जी हां राष्ट्रपति भवन में शनिवार को एक भावुक पल देखने के मिला। जब पद्म श्री पुरस्कार लेने पहुंचीं सालुमरदा तिम्मक्का उर्फ ‘वृक्ष माता’ ने राष्ट्रपति भवन के प्रोटोकॉल को तोड़ते हुए राम नाथ कोविंद को आशीर्वाद दिया।
तिम्मक्का ने आशीर्वाद स्वरूप राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के माथे को हाथ लगाया। तिम्मक्का के इस सहज कदम से राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और अन्य मेहमानों के चेहरे पर मुस्कान आ गई और समारोह कक्ष उत्साहपूर्वक तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठा। कड़े प्रोटोकाल के तहत आयोजित होने वाले समारोह में हल्के हरे रंग की साड़ी पहने तिम्मक्का ने अपने मुस्कुराते चेहरे के साथ माथे पर ‘त्रिपुण्ड्र’ लगा रखा था।
तिम्मक्का की कहानी धैर्य और दृढ़ संकल्प की कहानी है। उन्हें शादी के काफी समय बाद भी बच्‍चा नहीं हुआ। जब वह उम्र के चौथे दशक में थीं तो बच्चा न होने की वजह से खुदकुशी करने की सोच रही थीं, लेकिन अपने पति के सहयोग से उन्होंने पौधरोपण में जीवन का संतोष तलाश लिया। इसके बाद तिम्मक्का ने पीछे मुढ़ कर नहीं देखा और 8000 से ज्यादा पेड़ लगा दिए। यही वजह है कि उन्हें ‘वृक्ष माता’की उपाधि मिली है।
राष्ट्रपति भवन में शनिवार को उन्हें अन्य विजेताओं के साथ पद्म पुरस्कार से सम्मानित किया गया। अभी उनकी उम्र 107 साल है। उनके इस कार्य के लिए उन्हें कई अवॉर्ड्स भी मिल चुकें। थिमक्का को सम्मान मिलने के बाद ये कहा जाने लगा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पद्म पुरस्कारों को राग दरबारियों के चंगुल से निकालकर विराट काम करने वाले आम जन तक पहुंचाने का काम किया है।
इस सरकार ने ऐसे-ऐसे व्यक्तियों को पद्म सम्मान दिया है, जिसके लिए उन्होंने ख़ुद कभी सपने में भी नहीं सोचा होगा। क्या आपने कभी सोचा था धरती का वृक्षों से श्रृंगार करने वालीं एक बूढ़ी अम्मा नंगे पांव राष्ट्रपति भवन पहुंचेंगी और इस अंदाज़ में पद्म पुरस्कार लेते और उनके सम्मान में देश की तीनों सेनाओं के प्रमुख के शीश झुकाने की ऐसी सुखद तस्वीर नुमाया होगी।

Related posts

मोदी ही हैं जो दे सकें पाकिस्तान को उसी की भाषा में जवाब

admin

गौतम गंभीर उतरेंगे चुनाव के मैदान में !

admin

मोदी के सपनों का भारत

admin

हाफ शर्ट, सैंडल और स्कूटर की सवारी…. वाकई बिरले थे मनोहर पर्रिकर

admin

शशि थरूर के रिश्तेदार हुए भाजपा में शामिल

admin

कौन होगा अगला प्रधानमंत्री ?

admin