Rahul Gandhi’s initiative to eradicate poverty, promises Rs 72,000 pa to five crore families

अमेठी के अलावा केरल की वायनाड सीट से भी लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी 

कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी उत्‍तर प्रदेश के अपने पारंपरिक सीट अमेठी के अलावा अब केरल के वायनाड से भी लोकसभा चुनाव लड़ेंगे। कांग्रेस के दिग्‍गज नेता एके एंटनी और रणदीप सुरजेवाला ने रविवार को इसकी घोषणा की। दोनों नेताओं ने कहा, राहुल गांधी जी को केरल, तमिलनाडु, केरल और कर्नाटक से चुनाव लड़ने का ऑफर मिला था, लेकिन राहुल गांधी ने वायनाड का चुनाव किया। रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा- कांग्रेस कार्यकर्ताओं के लिए हर्ष का दिन है।

एक सवाल के जवाब में रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा, गंभीर राजनीतिक विमर्श की जगह हम हल्‍के विषय पर बहस नहीं कर सकते। राहुल गांधी जी को अमेठी में कोई डर नहीं है। यह कार्यकर्ताओं की मांग पर निर्णय लिया गया है। उन्‍होंने सवालिया लहजे में कहा- अगर ऐसा होता तो क्‍या हम कह सकते हैं कि वे गुजरात छोड़कर क्‍यों भागे?

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि दक्षिण भारत की परंपराओं पर मोदी सरकार की ओर से हमला किया जा रहा है। इसलिए केरल, कर्नाटक और तमिलनाडु से बार-बार मांग थी कि राहुल गांधी दूसरी सीट से भी चुनाव लड़ें। राहुल गांधी अमेठी के अलावा वायनाड सीट से भी चुनाव लड़ेंगे। भौगोलिक रूप से वायनाड, तीन राज्यों केरल, कर्नाटक और तमिलनाडु से जुड़ा हुआ है। राहुल गांधी इस सीट से चुनाव लड़कर तीन प्रांतों का प्रतिनिधित्व करेंगे।

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि राहुल गांधी केरल की वायनाड लोकसभा क्षेत्र से भी चुनाव लड़ेंगे। आज एक सुखद दिन है। राहुल जी ने अनेको बार कहा है कि अमेठी उनकी कर्मभूमि है। अमेठी से उनका रिश्ता परिवार के सदस्य का है इसलिए अमेठी को छोड़ नहीं सकते।

वायनाड सीट को लेकर कांग्रेस के दो वरिष्ठ नेताओं, रमेश चेन्नीथला और पूर्व सीएम ओमान चांडी के बीच मतभेद था। पार्टी तय नहीं कर पा रही थी कि किसे इस सीट से उम्‍मीदवार बनाया जाए। इसके बाद प्रदेश कांग्रेस की तरफ से राहुल गांधी को इस सीट से चुनाव लड़ने का प्रस्ताव दिया गया था। हालांकि अब खुद कांग्रेस ने साफ कर दिया है कि राहुल गांधी अमेठी के अलावा वायनाड से भी चुनाव लड़ेंगे।

इस सीट के राजनीतिक इतिहास की बात करे तो 2008 में परिसीमन के बाद यह सीट वजूद में आई। इस लोकसभा सीट के अन्तर्गत केरल के तीन जिलों कोझिकोड, वायनाड और मलप्पुरम की सात विधानसभा सीटें आती हैं। 2009 और 2014 के चुनाव में इस सीट से कांग्रेस के एमवाई शनावास जीते थे। 2014 के चुनाव में कांग्रेस और सीपीआई के बीच कड़ी टक्कर हुई थी। कांग्रेस के एमवाई शनावास ने सीपीआई कैंडिडेट पीआर सत्यन मुकरी को 20,870 वोटों से हराया था। नवंबर, 2018 में शनावास का निधन हो गया। इसके बाद से ही यह सीट खाली है। इस बार सीपीआई ने इस सीट से पीपी सुनेर को टिकट दिया है।

Related posts

मोदी ही हैं जो दे सकें पाकिस्तान को उसी की भाषा में जवाब

admin

प्रियंका गांधी के वोट काटने वाले बयान पर संबित पात्रा, बोले- कांग्रेस तीन में न 13 में

admin

पद्म पुरस्कार : जब प्रोटोकॉल तोड़ ‘वृक्ष माता’ तिम्मक्का ने राष्ट्रपति कोविंद को दिया आशीर्वाद 

admin

मोदी के सपनों का भारत

admin

PM मोदी ने वाराणसी से किया नामांकन, दाह संस्कार करने वाले जगदीश चौधरी बने प्रस्तावक

admin

राहुल गांधी अमेठी से हारे, तो राजनीति से लूंगा सन्यास : नवजोत सिंह सिद्धू

admin